Festival and Shayari

Dipawali Kyu Manate Hain ? Diwali Manane ka Karan 2019

Dipawali Kyu Manate Hain ? Dipawali Manane Ka Karan.Freinds dipawali hinduo ka pirshidh Festival hai . सभी हिन्दू इसे बड़े उल्लाश के साथ मनाते हैं! यह त्यौहार   कार्तिक महा की अमावस्या को मनाया जाता है अमावस्या बाले दिन की  रात बड़ी काली रात होती है इस घोर काली रात में दीपावली त्यौहार रौशनी फैलाने का काम करता है

इन्हें भी जानें 

दीपावली त्यौहार मनाने का मुख्य कारण बताया जाता है जब भगवान् राम 14 साल बनवास काट के जब आयोध्या लोटे थे तो इस खुशी में आयोध्या के लोगो ने दीये जलाकर उनका स्वागत किया था और हर गली गलयारो और घरो को दीये जलाकर सजा  दिया जाता है और इस दिन बाजार में बहुत भीड़ रहती है छोटे छोटे बच्चे खिलोने खरीदते हैं और इस दिन पटाखे भी बहुत छोड़े जाते हैं दीपावली आने से पूर्व ही लोग अपने घरो में साफ़ सफाई करने लगते हैं और घरो को दियो व छोटी छोटी फुलझड़ियो से पूरे घर को रोशन करते हैं और पांच के इस पर्व सभी अपने अपने घर स्वादिस्ट भोजन और अच्छीअच्छी मिठाइयां भी बनाते हैं और इस दिन  पत्ता भी खेलते हैं दोस्तों आखिर क्यों मानते हैं ये त्यौहार किस ख़ुशी में मानते हैं पूरी जानकारी के लिए पड़ते रहिये

कब और क्यों  मनाते हैं ये त्यौहार  ये त्यौहार दशहरा के दिन पश्चात अक्टूबर या नबम्बर के महीने में आता है यह त्यौहार भगवान् राम के 14 साल के वनवास काटके अपने राज्य  लौटने की ख़ुशी में मनाया जाता है इसी दिन भगवान् राम अपने राज्य लोटे थे और अयोध्या के लोगो ने उनके आने की ख़ुशी में उनका स्वागत खूब धूम धाम से किया और अपने घरो गलियों को सजाया और पटाखे  भी छोड़े जाते हैं  दीपावली को रोशनी का त्यौहार भी कहा जाता है  जो की लक्ष्मी आने का संकेत है साथ ही इस त्यौहार पर  बुराई से अच्छाई की जीत के लिए भी मनाया जाता है भगवान् राम ने रावण का वद्ध कर धरती को बुराई से बचाया था रिवाजो के अनुसार ऐसा मना जाता है की घर दूकान आदि की साफ़ सफाई रखने से उस स्थान पर लक्ष्मी का प्रवेश होता है इस दिन साफ सफाई और नयी चीजों को खरीदने से घर में लक्ष्मी माता आती हैं इस दिन बच्चे बड़े सभी नए नए कपडे ,उपहार ,मिठाई आदि खरीदते हैं और साम को सभी नहा धोकर लक्ष्मी की पूजा करते हैं और ईश्वर से अपने जीवन में खुशी रहने की कामना करते हैं और  होने के बाद एक दुसरे को प्रसाद बांटते हैं और बाद में पटाखे और अन्य खेलो  में मस्त हो जाते हैं

लक्ष्मी पूजा  यह त्यौहार पहले लक्ष्मी पूजा के नाम से मनाया जाता था  दीपावली के पहले दिन को धनतेरस के नाम से जाना जाता है इस दिन सभी हिन्दू भाई महालक्ष्मी की पूजा करते हैं ऐसा करके लोग देवी को खुश करने के लिए पूजा तथा भक्ति गीत ,मन्त्र का उच्चारण करते हैं और अगले दिन को लोग नारक चतुर्थी मनाते हैं जिसे छोटी दिवाली के नाम से जाना जाता है क्यूंकि इस दिन भगवान् कृष्ण ने नरकासुर का खात्मा किया था इस दिन सुबह जल्दी उठकर तेल से स्नान कर माँ देवी काली की पूजा करते हैं और उन्हें कुम कुम लगाते हैं माना जाता है की कार्तिक अमावस्या के दिन समुन्द्र मंथन में लक्ष्मी का जन्म हुआ ,महा लक्ष्मी धन की लक्ष्मी होने के कारण धन के प्रतीक स्वरूप इसको महालक्ष्मी पूजा के रूप में मानते हैं आज भी इस दिन लक्ष्मी की पूजा होती है और उसके बाद तीसरा दिन मुख्य दीपावली का होता है जिसे बड़ी दीपावली के नाम से भी जाना जाता है इस दिन सब दोस्त अपने अपने मित्र को घर पर बुलाकर मिठाई खिलते हैं और एक दुसरे के सारे गिले सिकवे भुलाकर गले मिलते हैं और एक दुसरे घर जाकर अच्छे अच्छे पकवान कहते हैं और शाम को खूब पटाखे छोड़ते हैं

गोबर्धन पूजा   अगले दिन मतलब चौथे दिन गोबर्धन का होता है जिसमे श्री कृष्ण की आराधना की जाती है और लोग अपने दहलीज पर गोबर्धन बनाकर उसकी पूजा करते हैं कहावतों के अनुसार कहा जाता है की भगबान कृष्ण ने अपनी कन्ना ऊँगली से गोबर्धन पर्वत को उठाकर अचानक आयी बर्षा से गोकुल के लोगो को बचाया था इसलिए गोबर की पूजा की जाती है

भैया दूज  पांचवा दिन को भैया दूज के नाम से जानते हैं इस दिन बहने अपने भाई से मिलने जाती हैं ये भाई और बहनो के रिस्तो को महत्ब देता है

नोट  दोस्तों दीपावली को आतिशवाजी करते समय हमको ध्यान रखना चाहिए की किसी गरीब की झोपडी या कोई पकी फसल न हो जिससे उसको कोई नुकशान पहुंचे  आतिशवाजी करते समय स्वयं का भी ख़याल रखे अर्थात आतिशवाजी करते समय थोड़ी दूरी बनाये रखे और अपने दोस्तों ,भाई  बहन को भी सतर्क कर दे  जिससे आप कोई नुकशान  में नाआ जाये

और दोस्तों मेरा आर्टिकल आपको पसंद आया हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों को भी भेजे जिससे वो भी इसे पढ़ सके और आप अपनी राय को कमेंट करके बताये की कैसा लगा हमारा आर्टिकल और ऐसे ही आर्टिकल पड़ने के लिए जुड़े रहिये हमारी वेबसाइट www .onlinehindi knowledge .com पर दोस्तों उम्मीद करता हूँ आपको मेरा आर्टिकल पसंद अयेगा

About the author

Tahirmalik786

2 Comments

Leave a Comment